Maa Aisi Hi Hoti Hai…

Maa Aisi Hi Hoti Hai…

This poem is so special to me, and after you read it, it'll have a place in your heart too. For the convenience of readers, this hindi poem is scripted in both english and hindi; Scroll for your preference 🙂

IN ENGLISH:

‘Aa gayi school se? chal haath dhokar khana kha le’,
‘Bus itne se kya hoga? Ek aur roti toh araam se chali jayegi’,
‘Chup chap jo sabzi bani hai kha le varna ye bhi nahi milega’,
Gusse mein bhi pyaar se itna khayal rakhti hai,
Maa aisi hi hoti hai…

Teachers ko saamnese bolti hai, ‘ Aap dher sara homework dena,
Aur agar ye nahi padhegi toh saza dena, muje koi apatti nahi hai,
Maa ki toh sunti nahi hai, maar ki sunle shayad ye’,
Aisa bolnewali maa hi humein maar padne pe khud dard mein sisakti hai,
Sahi mein, maa aisi hi hoti hai…

Jaise jaise umra badhti hai, javaabdaari ka bhaar badhta hai,
Sab  pyaar se zyada humse apeksha karne lagte hai.
Jaha duniya ek taraf dhoop mein nange pao bhaga rahi hoti hai,
Vaha ‘beta tune kuch khaya kya’ puchhte hue aanchal ki thandak mein sehlati keval ek hai,
Vardaan si lagti hai, maa aisi hi hoti hai…

Maa-baap ka bachpan se aisa hi kuch prabhaav raha hai,
Bahar jao toh lagta hai papa hote toh mere paas ye hota woh hota,
Ghar aao toh khayal aata hai maa ye kamre mein hoti, gungunate hue khana bana rahi hoti,
Bina rasoi-ghar ka ghar aur bin maa ka jeevan, roz uthne pe nazaar mein aata hi hai aur khalta bhi,
Jaadoo hai uske haatho mein, maa aisi hi hoti hai…

Pyaar kahi na kahi se toh mil jata hai,
Kabhi do kadam saath chalne wale dosto se, toh kabhi ek swipe karne se,
Par bina ummeed ke dilse aashish dene wali mamta nahi milti,
Woh mamta ka kavach bhi banegi aur chappal fek kar kam bhi karayegi,
Ajooba hai, anokhi hai, maa aisi hi hoti hai…

Log apna kaam nikalvane ke liye humein dard dete hai,
Maa humara kaam ban jaaye, iske liye dard deti hai,
Mat dard dena usko kabhi tum, shayad usne ye jataya bhi nahi hoga
Par khudke dard ke pal mein bhi usne tumhe dard se bachaya hai,
Kya karein, maa aisi hi hoti hai…

Maa ki na tankha hoti hai, na promotion,
Apne bacche ko bukhar aya toh overtime bhi karti hai,
Jiske bina aankhon ke saamne padi cheezein bhi nahi dikhai deti,
Kisme hai itni haisiyat ki uski kimmat aank sake?
Bohot anmol hai, maa aisi hi hoti hai…

Jitne paap kar rakhe hai humne, bhagwaan ke darshan toh hone se rahe,
Jitni shraddha se daulat ko pujte ho, use kayi guna aur maa ko pujna,
Jisne apne bacche ke liye saari khwahishein nyochavar kar di aur shrey bhi nahi liya,
Us maa ko itni suhani zindagi dena jiski usne khwahish bhi nahi ki hogi,
Uske toh khwahish mein bhi tumhari salaamati hogi, maa aisi hi hoti hai..

Duniya mein sab kuch chin gaya toh bhi kya fark padta hai, kaha kuch apna hai,
Par maa chhin gayi toh samaj mein nahi ayega zinda rehkar karna kya hai, kyunki vahi toh ek apni hai,
Khushnaseeb hai jiski maa hai, woh ab bhi tumhare paas hai,
Khushnaseeb hai jiski maa nahi hai, woh ab bhi tumhare paas hai,
Kaha tha na, maa aisi hi hoti hai..

IN HINDI:

आ गयी स्कूल से? चल हाथ धोकर खाना खा ले.
बस इतने से क्या होगा? एक और रोटी तो आराम से चली जाएगी,
चुप चाप जो सब्ज़ी बानी है खा ले वार्ना ये भी नहीं मिलेगा,
गुस्से में भी प्यार से इतना ख्याल रखती है,
माँ ऐसी ही होती है…

शिक्षकों को सामने से बोलती है, ‘आप ढेर सारा होमवर्क देना
और अगर ये पढ़ेगी नहीं तो सज़ा देना, मुझे कोई आपत्ति नहीं है! ‘
‘माँ की तो सुनती नहीं, मार की सुनले शायद ये’,
ऐसा बोलनी वाली माँ ही मार पड़ने पे खुद दर्द में सिसकती है,
सही में, माँ ऐसी होती है…

जैसे जैसे उम्र बढ़ती है, जवाबदारी का भार बढ़ता है,
सब प्यार से ज़्यादा हमसे अपेक्षा करने लगते है.
जहाँ दुनिया एक तरफ धुप में नंगे पाओ पे भगा रही होती है,
वहाँ ‘बेटा, तूने कुछ खाया क्या’ पूछते हुए अंचल की ठंडक में सहलाती केवल एक है,
वरदान सी लगती है, माँ ऐसी ही होती है…

माँ-बाप का बचपन से ऐसा ही कुछ प्रभाव रहा है,
बहार जाओ तो लगता है पापा होते तो मेरे पास ये होता वो होता,
घर आओ तो ख्याल आता है माँ इस कमरे में होती, गुनगुनाते हुए खाना बना रही होती,
चाहे बिना रसोई का घर हो, या बिन माँ का जीवन, रोज़ उठने पे नज़र में आता ही  है और खलता भी,
जादू है उसके हाथों में, माँ ऐसी ही होती है…

प्यार कही न कही से तो मिल जाता है,
कभी दो कदम साथ चलने वाले दोस्तों से, कभी एक स्वाइप करने से,
पर बिना उम्मीद के दिल से आशीष देने वाली ममता नहीं मिलती,
वह ममता का कवच भी बनेगी, और चप्पल फेक कर काम भी कराएगी,
अजूबा है, अनोखी है, माँ ऐसी ही होती है…

लोग अपना काम निकलवाने के लिए हमें दर्द देते है,
माँ हमारा काम बन जाए इसके लिए दर्द देती है,
मत दर्द देना उसको कभी तुम, शायद उसने कभी ये जाताया भी नहीं होगा
पर खुदके दर्द के पल में भी उसने तुम्हे दर्द से बचाया है,
क्या करें, माँ ऐसी ही होती है…

माँ की न तन्खा होती है, न प्रमोशन,
अपने बचो को बुखार आया तो ओवरटाइम भी करती है,
जिसके बिना आँखों से सामने पड़ी चीज़े भी दिखाई नहीं देती,
किसमे है इतनी हैसियत की उसकी किम्मत आंक सके,
वह अनमोल है, माँ ऐसी ही होती है…

जितने पाप कर रखे है हमने, भगवान् के दर्शन तो होने से रहे,
जितनी श्रद्धा से दौलत को पूजते हो, उससे कई गुना ज़्यादा माँ को पूजना,
जिसने अपने बच्चे के लिए सारी ख्वाहिशें न्योछावर कर दी और श्रेय भी नहीं लिया ,
माँ को इतनी सुहानी ज़िन्दगी देना जिसकी उसने ख्वाहिश भी नहीं की हो,
उसके तो ख्वाहिश में भी तुम्हारी सलामती होगी, माँ ऐसी ही होती है…

दिनया में कुछ छीन गया तो भी क्या फ़र्क़ पड़ता है, वैसे भी कहा कुछ अपना है,
माँ छीन गयी तोह समज में भी नहीं आएगा ज़िंदा रह के करना क्या है, क्यूकि वहीं तो एक अपनी है,
खुशनसीब है जिसकी माँ है, वह अब भी तुम्हारे पास है,
ख़ुशनसीब है जिसकी माँ नहीं है, वह अब भी तुम्हारे पास है,
कहा था न, माँ तो ऐसी होती है…

Visits: 3354

Madhvi Panchal

Related Posts

Lockdown Ke Dauran

Lockdown Ke Dauran

BEET GAYI, SO BAAT GAYI? – 2019

BEET GAYI, SO BAAT GAYI? – 2019

Vintage Heart 🤎

Vintage Heart 🤎

LET IT GET TO YOU

LET IT GET TO YOU

8 Comments

  1. Very nicely written and what a way to describe mom… you have it in you to touch the pulse… great writing. Cheers

  2. Aasmanon se pariya bulati hai wo
    Thapiya deke lori sunati hai wo
    Chanda mama ka chehara dekhati hai wo
    Phool mamta ke yu bhi piroti hai maa

  3. Felt Nostalgic after reading this… Took me back to those days where being in home felt incomplete without being mother… Mother complete the home… She is the one I call after coming home… Very well written… After this I have given a tight hug to my Maa… 😍😀👌

  4. Mom’s love is measureless.. no body can take or fill her place in this world….but you wrote each n every moment about mom is awesomely …I just go back and suddenly remembered my childhood …nice poem Madhvi..keep it up dear😍🥰

  5. Love you so much for writing down so beautifully ❤️
    Had a nostalgic feel reading this one😘

  6. Maa toh aisi hi hoti hai, sab ki..
    Per sabki beti kya hoti hai aap jaisi?
    Jo itni kadr karti hai maa ki
    Woh maa bhi bahut khushnaseeb hai aapki
    (madhavi this was too good.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent Posts

Advertisements

Categories

Recent Comments

Advertisements

Recent Posts

Archives