BEET GAYI, SO BAAT GAYI? – 2019

BEET GAYI, SO BAAT GAYI? – 2019

Firse dekhte dekhte ek aur saal nikal gaya,
Kya pata kitno ne waqayi mein jiya, aur kitno ne sirf guzara kiya.
Jiske din itne lambe lage,
woh saal bhi kitna jaldi khatam ho gaya!

Kitni ummeedein rahi hai 2019 se,
Kitne dil joodein aur kitne dil toote iss saal mein.
Kai logo ne apne asli rang aur giri hui soch dikha hi di,
Toh dusri taraf naye log bhi aye, naye nazariye ke saath naye raastein dikhaye.

Ye saal aisa tha jisme aur farq padna hi band ho gaya,
Humein shiqayat nahi hai kisise, na gussa, na khafa hai,
Ache toh sab log hote hai, par sabki sangat thodi !
Iski nakli ‘parwah’ aur uski jhoothi ‘haqeeqat’ mein chhipein asli neeyat kiski kitni , yeh parakhna sikhaya iss saal ne.

Seekh mili toh itni sakht, ke ab nahi lagta dubara hogi aisi galti,
Ki badlaav, ummeed ya pyaar ke bhram mein,
Zang se bhare lohe ko bhi sone ke bhaav deke aa jayenge.
Seekh 2019 ki: Nahi sochta har koi parinam ki, nahi mol hote sabke bol ke.

Beet gaya saal 2019, par iski baat saath mein zarur rakhiye,

Kyu bhulna itni takleefein, itne imtehan?Itne naye tajurbe aur naye sapne?
Jaisa bhi tha ye saal, mazedaar bohot laga!
Khudse fir mulaqaat hone lagi, jo hua, acha hi hua.

Bagiche se sara kachra saaf ho gaya is saal mein,
Kachre ke kayi roop – cheezein, soch, yaadein, log.
Nateeja ye, mehek hai soch mein, chehre pe khushi hai,
Ankhon mein ‘kaash’ ke jhoothe tasalli se panapta dard nahi hai.

Badhiya tha ye saal! Beet gaya, par baat na jaaye.
Iss baar ummeed anewale saal se nahi, khudse hai.
Kal subah sirf ek naya parikraman shuru hoga, Duniya jaisi hai vaisi hi rahegi,
Toh kyu badlaav ke liye naye saal ka intezaar karna,
Jab tum khud mein roz sudhraav laake ek NAYA DAUR laa sakte ho?!


Salaam 2019 ko, jaisa bhi tha, mazaa toh bohot aya!

फिरसे देखते देखते एक और साल निकल गया,
क्या पता कितनोने वाक़ई  में जिया और कितनोने सिर्फ गुज़ारा किया। 
जिसके दिन इतने लम्बे लगे,
वह साल भी कितना जल्दी ख़तम हो गया!

कितनी उम्मीदें रही है २०१९ से,
कितने दिल जुड़े और कितने दिल टूटे इस साल में।  कई लोगो ने अपने असली रंग और गिरी हुई सोच दिखा ही दी
तो दूसरी तरफ नए लोग भी आये, नए नज़रिये के साथ नए रास्ते दिखाए   

 

ये साल ऐसा था जिसमे और फ़र्क़ पड़ना ही बंद हो गया,
हमें शिकायत नहीं है किसीसे, न गुस्सा, न खफा है,
अच्छे तो सब लोग होते है, पर सबकी संगत थोड़ी!
इसकी नकली परवाहऔर उसकी झूठी हक़ीकतमें छिपे असली नीयत किसकी कितनी , ये परखना सिखाया है इस साल ने। 

सीख मिली तो इतनी सख्त
के अब नहीं लगता दुबारा होगी ऐसी गलती,
की बदलाव, उम्मीद, या प्यार के भ्रम में
जंग से भरे लोहे को भी सोने के भाव देके आजायेंगे। 
सीख: नहीं सोचता हर कोइ परिणाम की, नहीं मोल होते सबके बोल के 

बीत गया साल २०१९, पर इसकी बात साथ में ज़रूर रखिये,
क्यों भूलना इतनी तकलीफें और इतने इम्तिहान ?
इतने नए तजुर्बे और नए सपने?
जैसा भी था ये साल, मज़ेदार बहुत लगा!
खुदसे फिर मुलाक़ात होने लगी, जो हुआ, अच्छा ही हुआ।

बगीचे से सारा कचरा साफ़ हो गया इस साल में,
कचरे के कई रूप – चीज़ें, सोच, यादें, लोग। 
नतीजा ये, महक है सोच में, चेहरे पे ख़ुशी है,
आँखों में काशके झूठे तसल्ली से पनपता दर्द नहीं है।

बढ़िया था ये साल! बीत गया, पर बात न जाए.. 
इस बार उम्मीद आनेवाले साल से नहीं, खुदसे है,
कल सुबह सिर्फ एक नया परिक्रमण शुरू होगा, दुनिया जैसी है वैसी ही रहेगी,
तो क्यू बदलाव के लिए नए साल का इंतज़ार करना
जब तुम खुद में रोज़ सुधराव लाके एक नया दौर ला सकते हो?

सलाम २०१९ को, जैसा भी था, मज़ा तो बहुत आया!

 

Visits: 754

Madhvi Panchal

Related Posts

Maa Aisi Hi Hoti Hai…

Maa Aisi Hi Hoti Hai…

Lockdown Ke Dauran

Lockdown Ke Dauran

Vintage Heart 🤎

Vintage Heart 🤎

LET IT GET TO YOU

LET IT GET TO YOU

2 Comments

  1. “2019 ये साल ऐसा था जिसमे और फ़र्क़ पड़ना ही बंद हो गया”

    बोहोत खूब लिखा madhvie

    Happy new year 2020.
    hope all your dreams come true…

    Try one new thing that you were afraid of 💐💐

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent Posts

Advertisements

Categories

Recent Comments

Advertisements

Recent Posts

Archives